भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पितृ ऋण / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिता के पिता
खलीफा थे अखाड़े के,
नहीं थे पिता
उस्ताद कहीं के
मुझे जिन्दगी का
क, ख, ग, समझाने में
मेरे गुरु हैं
मेरे पिता।