भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पियवा, त पियवा से पातर पियवा, सुनहु बचन मोरा हे / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पियवा[1], त पियवा से पातर[2] पियवा, सुनहु बचन मोरा हे।
पियवा, एक पेड़ अमवा[3] लगवतऽ त फलवा हम खइती हे॥1॥
धनिया, जे तुहुँ सुघरि धनिया, सुनहु वचन मोरा ए।
धनिया, एक तुहुँ बेटवा पझइतऽ[4] त सोहर हम सुनती हे॥2॥
उठि उठि चलि भेलन बिपर[5] धरे, अउरो से विपर धरे हे।
विपर, तोहरे चरन धोइए पीयबो, पुतर एक होयतो हे॥3॥
पुरुब के चनमा[6] पछिम होय, सुरुज पछिम उदे हे।
बहुआ तरसि तरसि जीउ जयतो, पुतर कहाँ पयबऽ हे॥4॥
उहँउ[7] से चलि भइली सासु लगे, अउरो से सासु लगे हे।
सासुजी, रउरेहुँ चरन धोइ पीयबो, पुतर एक होयतो हे॥5॥
पुरुब के चनमा पछिम होय, सुरुज पछिम उदे हे।
बहुआ तरसि तरसि जीउ जयतो, पुतर कहाँ पयबऽ हे॥6॥
उहँउ से चलि भेलन गोतनी से, अउरो गोतनी लगी हे।
गोतनी रउरे चरन धोइ पीतूँ, पुतर एक होयतो हे॥7॥
पुरुब के चनमा पछिम होय, सुरुज पछिम उदे हे।
बहुआ, तरसि तरसि जीउ जयतो, पुतर कहाँ पयबऽ हे॥8॥
उहँउ से चललन ननदी लगी, अउरो ननदी लगी हे।
ननदी तोहरो चरन धोइ पीयबो, पुतर एक होयतो हे॥9॥
पुरुब के चनमा पछिम होय, सुरुज पछिम उदे हे।
भउजो, तरसि तरसि जीउ जयतो, पुतर कहाँ पयबऽ हे॥10॥
नहाइ-धोआइ[8] ठाढ़ा भेल[9] सुरुज गोड़ लागल हे।
सुरुज, हम पर होअन देयाल,[10] पिया हो ताना मारल हे॥11॥
आधी रात गयली पहर रात, अउरो पहर राती हे।
बीचे राती ललना जलम भेल, महल उठे सोहर हे॥12॥
आबह बिप्र आबह चउकि[11] चढ़ि बइठह हे।
तोहरे कहल[12] नंदलाल, तोहर गोड़ पूजब हे॥13॥
आवह सासु, तूँ आवह, जाजिम चढ़ि बइठह हे।
तोहरे कहल नंदलाल, तोहर पाँव पूजब हे॥14॥
आवह गोतनी, तूँ आवह, मचिया चढ़ि बइठह हे।
तोहरे कहल मोरा लाल, तोहरो पाँव पूजब हे॥15॥
आवह ननदो, तूँ आवह, चटइया चढ़ि बइठह हे।
तोहरे कहल मोरा लाल, तोहरो पियरी पहिरायब हे॥16॥

शब्दार्थ
  1. पिया, पति
  2. छरहरा
  3. आम्र
  4. पैदा करना
  5. विप्र, ब्राह्मण
  6. चन्द्रमा
  7. वहाँ
  8. नहा-धोकर
  9. ठाढ़ा भेल = खड़ी हुई, अर्ध्य देने के लिए खड़ी हुई। यहाँ का संकेत छठ व्रत के लिए है
  10. दयालु
  11. बैठने के लिए बनी चौकी
  12. कहा हुआ