भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीड़ पच्चीसी / महेन्द्रसिंह सिसोदिया 'छायण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विरथा में बिलमावणौ,भारी भ्रस्टाचार|
अंतस हंदौ औळमो,सुणै नहीं सरकार||

विरथा सब रा वायदा,कूड़ तणी आ कार|
कूकै सगळा काळिया,सुणै नहीं सरकार||

धवळा चौगां धारिया,माडै कर मनवार|
बणठण मंचां बैठिया,सुणै नहीं सरकार||

सूझै नीं साची कदै,दे मिनखां नै मार|
लोभी इसडा़ं लोक रा,सुणै नहीं सरकार||

कूडा़ वादा काज रा,वां सबदां री वार|
औड़-झौड़ में उळझगी,सुणै नहीं सरकार||

कोजे ढाळै कूकतौ,अंतस मिनख अपार|
राडा़ं देवै राज नै,सुणै नहीं सरकार||

सारां हिळमिळ सांप्रत,डाकी गिया डकार|
कींकर रासण खूटियौ,सुणै नहीं सरकार||

तटकै तांतां तोडि़या,अबकै राज अबार|
नैह ज किंया निभावसां,सुणै नहीं सरकार||

सदन मांयनै चौरटां,पूग पचासां पार|
डाकीचाळो कर डसै,सुणै नहीं सरकार||

मारकाट कर मोकळी,हरदम रह हुशियार|
आग लगावै आंगणै,सुणै नहीं सरकार||

खरी दुकानां खोल दी,रूपियां री कर रार|
रासण दे नीं रौळिया,सुणै नहीं सरकार||

जबरा झींटा झाल नै,दंभी नै दुत्कार|
निरलज सारा नेतियां,सुणै नहीं सरकार||

कूड़ कमाणौ खावणौ,लंपट लोभ लगार|
कैवे किणनै जा कवि,सुणै नहीं सरकार||

जीणौ कींकर जगत में,वधियौ व्याभीचार|
पाप अणूतौ पेख लो,सुणै नहीं सरकार||

मुंडै मीठी मौवणी,खरौ ज अंतै खार|
अबै बेलियां आपणी,सुणै नहीं सरकार||

इतरी अरजी ईसरी,अबकै देस ऊबार|
नींतर सब रूळ जावसी,सुणै नहीं सरकार||

रंग बदळावै रोज रा,धवळा कपडा़ धार|
मीठी छुरियां मारणी,सुणै नहीं सरकार||

खाट ले गिया खलकडा़ं,नैनी करी निंवार|
पागां आगा पटकिया,सुणै नहीं सरकार||

केपी घर सूं काढ दे,तौगे री तरवार|
जाय हरावळ जूंझणौ,सुणै नहीं सरकार||

माल उड़ावै मारकां,धुन धाडै़ती धार|
निरलज कूडा़ नेतियां,सुणै नहीं सरकार||

इतरी अरजी ईसरी,अबकै देस ऊबार|
सदबुध दीजै सांच सह,सुणै नहीं सरकार||

नौंणो चावै नेतियां, विटळा नर वौपार|
किणदिस जावां कानजी,सुणै नहीं सरकार||

मांडो आखर मौवणा,धचकै धुंवांधार|
सायद आ चेतावनी,सुण लैसी सरकार||

बरस पांच अै बेलियाँ,ठीक काळजो ठार|
डांभ दिरावै देस रै,सुणै नहीं सरकार||

साची कैवूं सांवरा,हैलां करूं हजार|
तार सकै तो तार दे,सुणै नहीं सरकार||