भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुरबा जे बहै छै झलामलि हे कोसी / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पुरबा जे बहै छै झलामलि हे कोसी,
पछिया बहै छै मधुर ।
अंगना में कुँइयाँ खनाय दियो कोसिका,
बाँटि दियो रेशम के डोर ।
झटपट अंगिया मंगाय दियो कोसिका माय,
भैरव भैया भुखलो न जाय ।
साठी धान कूटि के भतवा रान्हलियै,
मुंगिया दड़रि के कैलो दालि ।
जीमय ले बैठलै भैरव छोटे भइया,
कोसी बहिन बेनिया डोलाय ।
बेनिया डोलावैत बहिनो चुवलै पसीना,
नैन से ढरै मोती लोर ।
जनु कानु जनु खिझु कोसिका हे बहिनो,
तोरो जोकर डोलिया बनाय ।
घर पछुअरवा में बसै छै कहरवा,
कोसी जोकर डोलिया बनाय ।
झलकैत जेती सुसुरारि ।