भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुराना ख़त / किरण मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई पुराना ख़त
महज एक
पीला पड़ चुका
काग़ज़ का टुकडा
नहीं होता

दस्तावेज़ होता है
पीली पड़ चुकी
अनुभूतियों का
परिचित-सा
अहसास होता है
मंद पड़ चुकी
सम्बन्धों की गर्माहट का
साक्षी होता है
बह चुकी स्नेह- सलिला का

कोई पुराना ख़त
केवल ख़त नहीं
गूँज होती है
अतीत की
छाया होती है
जीवन व्यतीत की
पहचान होती है
खो चुके
व्यक्तित्व की