भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूॼा जी जॻहि ते खू़न ॾिसन्दे, त ॾके थो जीउ / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूॼा जी जॻहि ते खू़न ॾिसन्दे, त ॾके थो जीउ।
भॻवान खे आदमख़ोर लिखन्दे, त ॾके थो जीउ॥

साज़िश में ॿुडल हर लहर, सागर जी फ़रेब आ माठि।
साहिल ते थधियुनि फींगुनि खां पुसन्दे, त ॾके थो जीउ॥

उथिली न पवे पंहिंजो भी, दिल जाँ जो भरियलु को ज़ख्मु।
कंहिं ज़ख्मी जिगर जी आह ॿुधन्दे, त ॾके थो जीउ॥

अणॼाणु ॾिसो, बेखौफ़ लफ़्जनि सां कॾहिं था कीअं।
हिन बाहि खे पर शाडर जो छुहन्दे, त ॾके थो जीउ॥

उथिली न पवे पंहिंजो भी, दिल जाँ जो भरियलु को ज़ख्मु।
कंहिं ज़ख्मी जिगर जी आह ॿुधन्दे, त ॾके थो जीउ॥

अणॼाणु ॾिसो, बेखौफ़ लफ़्ज़जनि सां कॾहिं था कीअं।
हिन बाहि खे पर शाडर जो छुहन्दे, त ॾके थो जीउ॥

हो वक्तु जॾहि ॿोलण जो, सभु माठि रहिया तंहिं महिल।
ऐं हाणे कमल हकु पंहिंजो घुरन्दे, त ॾके थो जीउ॥