भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पृथ्वी / वीरू सोनकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम संवाद करते थे
और आसमान अपना रंग बदल लेता था
हम घर से निकलते थे,
तो चार गाँव आगे खेत की जमीन और उपजाऊ हो जाती थी
हम छूटी जा रही बस को हाथ देते थे
और सड़क नदी के किनारे में बदल जाती थी!

हम ठहर-ठहर पहाड़ चढ़ जाते थे
और नीचे झाँकते थे,
हमारा भय कह उठता था तुम बहुत बड़ी हो पृथ्वी!

पृथ्वी चुपचाप उससे भी बड़ा
एक और पहाड़ खड़ा कर देती थी