भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेंसिल / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लिखती जाती, लिखती जाती।
लिख-लिखकर ये घिसती जाती।
बड़ी साहसी मेरी पेंसिल,
गर्दन इसकी छिलती जाती।
छिल-छिलकर आधी रह जाती।
आधी से आधी रह जाती।
फिर भी न बिलकुल घबराती।
लिखती जाती, लिखती जाती।