भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेटूलाला / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेटू लाला,
चाट-मसाला।
छोले आलू,
नरम कचालू।
इडली-डोसे,
गरम समोसे
दही-पकौड़ी,
सोंठ-कचौड़ी!
आलू टिक्की,
गुड़ की चिक्की!
रसगुल्ले हों,
तो हल्ले हों!
लार टपकती,
जीभ लपकती!
बस डट जाते,
चट कर जाते!