भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पैन / हरीश हैरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू याद कर
मैं थारी कलास में
जद पैन मांगण आयो
अ'र तू म्हनै
उतावळी हो'र पैन दियो
मैं पैन पूठो सौंप्यो
जद तू बोली-
थान्नै जरूरत है
थे ई राखो
ओ पैन, पैन नीं हो
दिल हो थारो
जको सौंप दियो
हरमेस सारू म्हनै तूं!