भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पोखरन-1 / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हँसो, बुद्ध हँसो
तुम्हारी मुस्कुराहट में
सिकते को बारूद कर देने की अदा
मुग्ध कर रही है जन-जन को
उन्हें महाबलियों की सभा में
अपना कद ऊँचा दिखने लगा है
हँसी के जवाब में
आमलेट तैयार हो चुका है
चगाई की पहाड़ियों पर ।