भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

प्रभु तोरी महिमा परम अपारा / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

प्रभु तोरी महिमा परम अपारा
जाको मिले न कोऊ पारा।।
सबरे जगत खों आप रचावें
सबके हो तुम पालन हारा।
प्रभु तोरी महिमा...।
कैसो सूरज गरम बनायो
कैसो शीतल चांद उजारा।
प्रभु तोरी महिमा...।
जुदा-जुदा नभ के तो ऊपर
चमकत कैसे हैं धु्रवतारा।
प्रभु तोरी महिमा...।
उन प्रभु खों तुम भज लो प्यारे
कर लो अपनो बेड़ा पार।
प्रभु तोरी महिमा...।