भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रभु तोरी महिमा परम अपारा / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

प्रभु तोरी महिमा परम अपारा
जाको मिले न कोऊ पारा।।
सबरे जगत खों आप रचावें
सबके हो तुम पालन हारा।
प्रभु तोरी महिमा...।
कैसो सूरज गरम बनायो
कैसो शीतल चांद उजारा।
प्रभु तोरी महिमा...।
जुदा-जुदा नभ के तो ऊपर
चमकत कैसे हैं धु्रवतारा।
प्रभु तोरी महिमा...।
उन प्रभु खों तुम भज लो प्यारे
कर लो अपनो बेड़ा पार।
प्रभु तोरी महिमा...।