भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रलाप / आन्ना अख़्मातवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने दफ़नाया
उन सबको
जो दफ़नाए नहीं गए थे
ठीक से

मैं कलपी, मैं रोई
सबके लिए

मगर
मेरे लिए
रोएगा कौन ?

(1958)

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : सुधीर सक्सेना