भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रियतमा / एस. मनोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चान सन चेहरा अहाँक
अहैं छिटकल चाँदनी
राग जे सभ हम गबै छी
अहैं सभहक रागिनी

चानमे देखैत छलहुँ जे
प्रियतमा के रूप क'
पूखक' ओ उष्णता बनि
खिलखिलाबैत धूप क'

फूल पर भौरा उड़ै छल
अहाँ छी एहसासमे
वेदनाक हर घड़ीमे
अहाँ मिललहुँ पासमे

दूबि पर जे ओस थिक ओ
विरहके ओ नोर थिक
मिलन ल' नित रैन बरषै
वेदनाक शोर थिक

तिमिर के सभ बंध काटैत
अहाँ रहलहुँ संगमे
बनि हिमालय ठाढ़ रहलहुँ
जीवनक सभ जंगमे