भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रिय प्रवास / अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’ / तृतीय सर्ग / पृष्ठ - ५

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

        तदपि जो सुर-पादप के तले।
        पहुँच पा सकता जन शान्ति है।
        वह कभी दल फूल फलादि से।
        मिल नहीं सकती जगतीपते॥81॥

झलकती तव निर्मल ज्योति है।
तरणि में तृण में करुणामयी।
किरण एक इसी कल-ज्योति की।
तम निवारण में क्षम है प्रभो॥82॥

        अवनि में जल में वर व्योम में।
        उमड़ता प्रभु-प्रेम-समुद्र है।
        कब इसी वरवारिधि बूँद का।
        शमन में मम ताप समर्थ है॥83॥

अधिक और निवेदन नाथ से।
कर नहीं सकती यह किंकरी।
गति न है करुणाकर से छिपी।
हृदय की मन की मम-प्राण की॥84॥

        विनय यों करतीं ब्रजपांगना।
        नयन से बहती जलधार थी।
        विकलतावश वस्त्र हटा हटा।
        वदन थीं सुत का अवलोकती॥85॥

शार्दूल-विक्रीड़ित छन्द

ज्यों-ज्यों थीं रजनी व्यतीत करती औ देखती व्योम को।
त्यों हीं त्यों उनका प्रगाढ़ दुख भी दुर्दान्त था हो रहा।
ऑंखों से अविराम अश्रु बह के था शान्ति देता नहीं।
बारम्बार अशक्त-कृष्ण-जननी थीं मूर्छिता हो रही॥86॥

द्रुतविलम्बित छन्द

विकलता उनकी अवलोक के।
रजनि भी करती अनुताप थी।
निपट नीरव ही मिष ओस के।
नयन से गिरता बहु-वारि था॥87॥

        विपुल-नीर बहा कर नेत्र से।
        मिष कलिन्द-कुमारि-प्रवाह के।
        परम-कातर हो रह मौन ही।
        रुदन थी करती ब्रज की धरा॥88॥

युग बने सकती न व्यतीत हो।
अप्रिय था उसका क्षण बीतना।
बिकट थी जननी धृति के लिए।
दुखभरी यह घोर विभावरी॥89॥