भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-17 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सींव ऊपरलो सरकणो
का’ल गळगळो हो’र बोल्यो-
म्हैं
भारी ईं बात खातर कोनी दी कै
बा तेरा खोज ढो’वै,
ईं बात नै ले’र देख
म्हैं सूक्यो खड़्यो हूं।