भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-22 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जांटी रै पेडै चढती
तोरूं री बेल,
आपणै प्यार नै
समझ बैठी खेल।
देखा देखी आपणै
उळझ बैठी
जंटियै में।