भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-25 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूकी जांटी पर लटकता
तोरूं रा तूंमड़ा
अर सूक’र उळजेड़ा
बेल रा नाळखा
बाज-बाज कैवै
प्रीत ओखी-प्रीत ओखी।