भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-2 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीजती बरियां बीज
बांसियै में बड़
तेरी चूडि़यां री नकल उतारतो
अर करतो कसूती मजाक।
ओ ई बीज
आयोड़ी हाड़ी में
घेघरियां रा घुघरिया बांध
तेरी पायल ज्यूं चिमकांवतो।
वायर जाणती
मेरै हिवड़ै री बात
जद ही तो
डाळी रै मिस हलांवती
तूं मेरै कानी हाथ।