भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-5 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किणी मोटी दावत सूं
कम थोड़ी ही आ बात !
तूं आग जगाई
अर चा पीवण सारू
मारयो हेलो।
साची,
धुवैं ज्यूं उड जांवतो म्हारो थकेलो।