भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम पर कुछ बेतरतीब कविताएँ-3 / अनिल करमेले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं कैसे कहूँ
चुप रहूँ तुम्हारे लिए
फिर भी कहूँ

तुम नहीं तो कुछ भी नहीं है मेरे पास
बस तुम ही रहतीं
कुछ और कब चाहिए था

मैं कैसे कहूँ
कि तुम सुन लो और यकीन कर लो।