भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम स्मृति-8 / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थोड़े दिनों साँप-सीढ़ी के खेल की तरह
हमारे बीच कुछ चलता रहा
सब यादों की कोलाज में चलता रहता है ।

आज.. उजाड़ दोपहर पार कर
निस्संगता की शाम की ओर आ गए हैं हम लोग
बुझती हुई लौ की तरह
अचानक याद आ रही हो तुम ।

(रह गया है -- बहुत कुछ
कभी न लौटने के लिए)

झूठी तसल्ली देकर चला गया है... समय...
अबोध सपने वाले अपराधी की तरह भागते-भागते
मर गया है अतीत कहने से
छाती में उठती है हूक...

इसलिए बैठा नहीं पाया जीवन में तुक...