भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फँसि गइलऽ तू / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जोन्ही जइसन दमकत छूँछी
साँवर भरल पुरल चेहरा पर
मुसकी लहरे
मन डूबे उतराए
बबुआ फँसि गइलऽ तू।

नीसन्ह पाँव
परे धरती पर
ढलके मन
हलुक बरन के साडी में जब
झलके तन
आँतर गहरे
मदन मृदंग बजावे
बबुआ फँसि गइलऽ तू।

लामी केश खुले जब सनके
शीत पवन
ईंगूरी ओठन पर पँवरे
जब जोबन
नीनि निखहरे
सपना में अझुरावे
बबुआ फँसि गइलऽ तू।

मातल अँखियन में अब
शोखी अङड़ाले
नेहिया के गोदी अब
प्रीतम बइठा ले
अँखिया मिलते
जब आँचर सझुरावे
बबुआ फँसि गइलऽ तू।