भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

फलाणा राय का मेल पे सारस बोली रई / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

फलाणा राय का मेल पे सारस बोली रई
पिया म्हने भम्मर घड़ाव
गेली हुवा गोरी मूरख गंवार
भम्मर तो कई पेरणो
भम्मर पेरी ने पाणी नीकलां
देख हमारा देवर-जेठ, देख चतर सायबा।