भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़सल अँधियारे की / रेखा राजवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने दालान में
बीज बोए दिन के
और फ़सल उगाई
अँधियारे की ।

अँधियारा फैल गया
घर में, मकान में
पूरे दालान में ।

फिर मैंने खोजा
उस औरत को
जो भटकती
हाथ झटकती
भाग रही थी
अनजान दिशा में ।

पकड़ा जब
ज़ोर से हाथ
तो सुनाई दिया
एक अट्टहास
घबरा के अँधेरे में
जब रौशनी जलाई
तो आईने में सूरत
अपनी ही पाई ।