भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फागुन /राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंग भरी
दिशाएँ
हरी, लाल, पीली ....

कुछ रुकी
हवाएँ
अलस गात, ढीली ...

चली कहीं
पिचकारी
बही धार, गीली...

फागुन में
कसक उठी
(फिर ...)
मन की कीली ... !