भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर उठें / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शक्ति और
बिखरे उत्साह को बटोर
कोशिश है, फिर उठें, थकान के ख़िलाफ़ ।

शनैः शनैः हो हो कर क्षीण
फड़फड़ाना
हर पल बैठे-ठाड़े ।
लड़कबुद्धि के व्यतिक्रम
लिए लड़खड़ाना
आँखें फाड़े -फाड़े ।

है यह
निष्प्राण फ़लसफ़े का व्यामोह
कोशिश है, फिर उठें, गुमान के ख़िलाफ़ ।

बैलधर्म की तुरही
लेकर पिंपियाना
बहर बेख़याली की ।
बेमक़सद झल्लाना
और किचकिचाना
गत ढीलमढाली की ।

फर्ज़ीबाड़े का
है आँकड़ा न गीत
कोशिश है, फिर उठें, रुझान के ख़िलाफ़ ।