भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर उसी धुन में उसी ध्यान में आ जाता हूँ / ज़िया-उल-मुस्तफ़ा तुर्क

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर उसी धुन में उसी ध्यान में आ जाता हूँ
तुझे मिलाता हूँ तो औसान में आ जाता हूँ

बे-निशाँ हो रहूँ जब तक तिरी आवाज़ के साथ
फिर किसी लफ़्ज़ सा इम्कान में आ जाता हूँ

जिस्म से जेसे तअल्लुक़ नहीं रहता कोई
बेश-तर दीदा-ए-हैरान में आ जाता हूँ

शाख़-ए-गुल से जो हवा हाथ मिलाती है कहीं
इसी अस्ना इसी दौरान में आ जाता हूँ

तू किसी सुब्ह सी आँगन में उतर आती है
मैं किसी धूप सा दालान में आ जाता हूँ