भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर वो बरसात ध्यान में आई / सरवत हुसैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर वो बरसात ध्यान में आई
तब कहीं जान जान में आई

फूल पानी में गिर पड़े सारे
अच्छी जुम्बिश चट्टान में आई

रौशनी का अता पता लेने
शब-ए-तीरा जहान में आई

रक़्स-ए-सय्यार्गां की मंज़िल भी
सफ़र-ए-ख़ाक-दान में आई