भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूले आसपास कास विमल अकास भयो / श्रीपति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फूले आसपास कास विमल अकास भयो,
रही ना निसानी कँ महि में गरद की।
गुंजत कमल दल ऊपर मधुप मैन,
छाप सी दिखाई आनि विरह फरद की॥
'श्रीपति' रसिक लाल आली बनमाली बिन,
कछू न उपाय मेरे दिल के दरद की।
हरद समान तन जरद भयो है अब,
गरद करत मोहि चाँदनी सरद की॥