भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूलोॅ में वसन्त / मुरारी मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फूलोॅ में वसन्त, पात-पात में वसन्त
दिन-रात में वसन्त, हर बात में वसन्त छै
चित्त में वसन्त, फेरू पट्ट में वसन्त
लट-धट में वसन्त, पनघट में वसन्त छै
बालोॅ में वसन्त, गोर-गालोॅ में वसन्त
चाल-ढालोॅ में वसन्त, हर हालोॅ में वसन्त छै
बागोॅ में, बहारोॅ में, बयारोॅ में, दियारोॅ में
अचारोॅ-विचारोॅ में वसन्ते वसन्त छै ।