भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल, दरिया और बहुत कुछ / सतीश छींपा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत कुछ है तुझमें
जैसे एक फूल कोई
या कोई दरिया हो जैसे
दरिया
बहा ले जाता है फूल को
फूल
रमता संग दरिया के निकल जाता है दूर
बहुत दूर
विलुप्त होता
अनन्त-अनन्त में
आओ-
मैं तुम्हारे ‘दरिया‘
‘फूल‘ और इस ‘बहुत कुछ‘ को प्यार कर लूं
फिर न जाने
यह जीवन
तुम्हारे भीतर बहकर
कहाँ चला जाए।