भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल की लालसा / जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विजय-वैजयंती माला के
बिखर चुके हों टूटे तार,
सूना गला देखकर पल-पल
तुझे चिढ़ाता हो संसार;
माँ, जिस दिन तू बिलख रही हो
खोकर अपना शुभ शृंगार,
लीन हो चुकी हो पीड़ा में
तेरी वीणा की झंकार;
उस दिन अकुलाकर, ठुकराकर
जीवन का सुख, हास-विलास,
ले बलिदान-धर्म की दीक्षा,
‘मर मिटने’ का ले सन्यास;
जो अपनी छाती छिदवालें
बनने को तव उर का हार,
उन फूलों का साथी बनकर
मैं भी निज जीवन दूँ वार!