भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल बनकर मुस्कराना चाहिए / रोहिताश्व अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिंदगी हँसकर बिताना चाहिए,
चुटकुले सुनना, सुनाना चाहिए।

रात-दिन आँसू बहाने से भला,
फूल बनकर मुस्कराना चाहिए।

चाट का ठेला खड़ा है सामने,
आज कुछ खाना, खिलाना चाहिए।

आ गया इतवार पापा जी हमें-
आज तो सरकस घुमाना चाहिए।

मास्टर जी हम पढ़ेंगे शौक से-
पर खिलौने कुछ दिलाना चाहिए।

देश को खुशहाल रखना है अगर-
हमको संसद में बिठाना चाहिए।