भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बूंटै रो काळजो।
जकै नै बो
मिनख रो
मन बिलमावण तांईं
बीं रै सामी राखै
पण
मिनख उण नै
देखै
तोड़ै
सूंघै
अर मसळ नाखै।