भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदनवार बँधे सब कैं, सब फूल की मालन छाजि रहे हैं / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत्तगयंद सवैया
(महाराज ऋतुराज के सम्मानार्थ तैयारियों का वर्णन)

बंदनवार बँधे सब कैं, सब फूल की मालन छाजि रहे हैं ।
मैनका गाइ रहीं सब कैं, सुर-संकुल ह्वै सब राजि रहे हैं ॥
फूल सबै बरसैं ’द्विजदेव’, सबै सुखसाज कौं साजि रहे हैं ।
यौं ऋतुराज के आगम मैं, अमरावति कौं तरु लाजि रहे हैं ॥१२॥