भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बई को कोणस राय रा आया सामे ओबरा / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बई को कोणस राय रा आया सामे ओबरा
बई को कोणस राय आई सामे पोल
बाजा बले अंबुलो बहुफल्यो
बई वो मोटा राय रो आयो सामे ओबरो
बई वो नाना राय री आई सामे पोल
बई वो कांकी बऊ की राम रसोई नीपजे
बई वो कांकी बऊ को जीमे परवार
बई वो छोटी बऊ री राम रसोई नीपजे
बई वो बड़ी बऊ को जीमे परवार।