भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बगत कदैई रूक्यौ है? / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दोरो है
इण बगत
किरैई बारे में सोचणौ
अर
सोरी कठै रैयी है
बिना कारण करणी
किणी सूं मिळ’र हथायां
इन्टरनेट
केबल टीवी
अर
बजार जोवै बाट
बा देखो
भागती जा रैयी है ट्रेन
रूकण री नीं है बीनै अड़ी
बगत
किरैई खातर कदेई रूक्यो है?