भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बगैर छाँव के होता नहीं गुज़र उसका / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बगैर छाँव के होता नहीं गुज़र उसका ।
हमारे साथ न हो पाएगा सफ़र उसका ।

बुलन्दियों से शुरूआत की थी दरिया ने,
ढलान ही में रहा उम्र भर सफ़र उसका ।

जो बात दफ़्न थी उस पर बना दिया है मज़ार,
पता नहीं ये अक़ीदत है या हुनर उसका ।

मैं सोचता हूँ मुझे फ़ायदा ही क्या होगा,
न कुछ भी कर नुक़सान मैं अगर उसका ।

हम एक-दूजे को ख़ूब जानते थे ’नदीम’
हमारा उस पे न हम पर हुआ असर उसका ।