भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बचपन की याद धीरे धीरे प्यार बन गई / राजा मेंहदी अली खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बचपन की याद धीरे धीरे प्यार बन गई
आ देख एक फुलवारी अब गुलज़ार बन गई

दिल में मोहब्बत आई जवानी के साथ-साथ
मेरी दिल की नगरी प्यार का संसार बन गई
आ देख एक फुलवारी ...

दुनिया से जिसको हम ने छिपाया था बार-बार
वो बात आके होंठों पर इक़रार बन गई
आ देख एक फुलवारी ...

फ़िल्म : शहीद (1948)