भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बच्ची की फरियाद / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

‘मुझे इतनी जोर से प्यार मत करो अंकल
देखो तो, मेरे होठों से निकल आया है खून
मेरे पापा धीरे से चूमते हैं सिर्फ माथा’

‘मुझे मत मारो अंकल, दुखता है
मैं आपकी बेटी से भी छोटी हूं
क्या उसे भी मारते हैं इसी तरह
मेरे कपड़े मत उतारो अंकल
अभी नवरात्रि में
मुझे लाल चुनर ओढ़ाकर पूजा था न तुमने’

‘तुम्हें क्या चाहिए अंकल ले लो मेरी चेन
घड़ी टॉप्स पायल और चाहिए तो ला दूंगी
अपनी गुल्लक जिसमें ढेर सारे रुपये हैं
बचाया था अपनी गुड़िया की शादी के लिए
सब दे दूंगी तुम्हें’

‘अंकल अंकल ये सब मत करो
मां कहती है ये बुरा काम होता है
भगवान जी तुम्हें पाप दे देंगे
छोड़ो मुझे वरना भगवान जी को बुलाऊंगी
टीचर कहती है भगवान बच्चों की बात सुनते हैं’
अब बच्ची लगातार च़ीख रही थी
पर भगवान तो क्या
वहां कोई इन्सान भी न था!