भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बच्चे की आँख में / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सामने कैलेंडर है
   बच्चा है
   बच्चे की आँख में कबूतर है
 
   कमरे में दिन है
   धूप है-हवाएँ हैं
   नीले आकाश हैं
   परियों की बातें हैं
   नदियों के घाट हैं
   गाछ-हरी घास हैं
 
   खिड़की के बाहर
   जो पीपल है
   उसकी परछाईं भी अंदर है
 
   खुले हुए दरवाजे
   आर-पार फैले हैं
   सपने-ही-सपने
   फूल और पत्तों के
   आपस के रिश्ते
   सारे हैं अपने
 
   यह टापू साँसों का
   जिस पर हैं यादें
   यहीँ सूरज का घर है