भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बच्चों की दुनिया में / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न कोई ज़ोर-ज़बरदस्ती चले ।
बच्चों की दुनिया में मस्ती चले ।

सुन लो जी, सुन लो जी
बात ये हमारी
डाँट-डपट सब की सब
बच्चों से हारी
बच्चों पर बच्चों की मरज़ी चले ।
न कोई ज़ोर-ज़बरदस्ती चले ।

आँखें दिखाना न
रौब अब दिखाना
न ही झूठी-मूठी
धौंस अब जमाना
डंडा चले न जी, धमकी चले ।
प्यार भरी मीठी पप्पी चले ।