भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़का दादा केरो साँकरि बगीचा / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

इस गीत में दुलहे को देखने के लिए घने बगीचे में छिपकर सास के जाने का उल्लेख हुआ है, जहाँ पेड़ की डाली में उसका आँचल फँस जाता है।

बड़का दादा केरो साँकरि बगीचा।
ओहि में उतरल जमाइ हे॥1॥
साँकरि बगीचबा में घनी घनी गछिया।
लटबा[1] गेलै ओझराय[2] हे॥2॥
छोड़ छोड़ रे लटबा, हमरि अँचरबा।
नैना भरि देखे दे जमाइ हे॥3॥

शब्दार्थ
  1. लटें
  2. उलझ गया