भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ा होने पर 3 / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुन्नी बढ़ कर रानी होगी,
मुन्नू होवेगा राजा।
बबुआ बेशक ब्याह करेगा,
औ ,बजावेगा बाजा।
सोहन सिर्फ किसान बनेगा,
धान बाजरा बोवेगा।
धन्नू बन सचमुच का धोबी,
सबके कपड़े धोवेगा।
मोहन मोटर सीख चलाना,
दूर देश को जावेगा।
लल्लू केवल लेक्चर देगा,
लीडर वह कहलावेगा।
शम्भू कहता है - शिक्षक बन,
मैं लड़कों को डाटूंगा।
मगर हुआ मैं कभी बड़ा,
तो कान गुरु के काटूँगा।