भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बढ़ई / जहूर बख्श

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बढ़ई हमारे यह कहलाते,
जंगल से लकड़ी मँगवाते!

फिर उस पर हथियार चलाते,
चतुराई अपनी दिखलाते!

लकड़ी आरे से चिरवाते,
फिर आरी से हैं कटवाते!

उसे बसूले से छिलवाते,
रंदा रगड़-रगड़ चिकनाते!

कुर्सी-टेबल यही बनाते,
बाबू जिनसे काम चलाते!

खाट, पलँग यह हमको देते
बदले में कुछ पैसे लेते!