भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बताशे लाए दादा! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खीलें लाईं भाभीजी,
बताशे लाए दादा।
बमों को, पटाखों को है
कर दिया टाटा!

अब की दिवाली पर न
शोर हम करेंगे।
फट्टा-फटा-फट्ट से न
बोर हम करेंगे।
फुलझड़ी, अनारों का ही
लेंगे मज़ा ज्यादा।

छोटी-छोटी खुशियाँ ये
कल बड़ी होंगी,
एक लड़ी आज, कल
सत-लड़ी होंगी,
झूठ-मूठ का नहीं है
अपना ये वादा।