भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बदलाव / विजयेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कलिंग लड़ाय के बाद
हममें नै देखनें छेलियै
कौनो विजय रोॅ कतार
से पाली लै छेलियै मनोॅ में
हारी केॅ एकठो जीत के आस
एक दिन हारिये गेलियै ।
‘दुश्मन संहारणम्’ के बदला
‘बुद्धं शरणम्’ केॅ चुनलियै ।
अहिंसा के फूल सें
कटतें रहलै हमरोॅ दर्प ।
दर्पण कानी पड़लै
अतीत रोॅ गौरवशाली इतिहास
अजायब घर के चीज
बनी केॅ रही गेलोॅ छै ।
रामलीला-रासलीला के
कड़ी जोड़ी रहलोॅ छियै ।