भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बधइया बाजै माधौ जी के / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बधइयां बाजै माधौ जी के
गोकुल बाजें बृंदावन बाजें
और बाजे मथुरैया।
बारा जोड़ी नगाड़े बाजें
और बाजे शहनैया। बधइयां...
गोपी गावें ग्वाला बजावें
नाचें यशोदा मैया। बधइयां...
बहिन सुभद्रा बधाव ले आई
नित उठ अइये जेई अंगना।
बधइयां... नंद बाबा अंगनइयां।