भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बना सोया महाराज जगाये सखी / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बना सोया महाराज जगाये सखी।
तेरे सेहरे में लगी अनार की कली, हीरे लाल बड़ी॥1॥
तेरे जोड़े[1] में लागी अनार की कली, कचनार की कली।
बना सोया महाराज जगाये सखी॥2॥
तेरे बीड़े में लागी अनार की कली, कचनार की कली।
बना सोया महाराज जगाये सखी॥3॥
मेरे लाड़ो में लागी अनार की कली, हीरे लाल जड़ी।
बना सोया महाराज जगाये सखी॥4॥

शब्दार्थ
  1. दुलहे के पहनने का कपड़ा, जिसका नीचे का भाग घाँघरेदार और ऊपर की काट बगलबंदी जैसी होती है